होम लोन नहीं चुका पा रहे - आपके पास हैं ये उपाय


बड़े से लेकर छोटे शहरों तक में घरों की बढ़ती कीमतों को देखते हुए उसे खरीदने के लिए होम लोन जरूरी हो गया है. इनकम टैक्‍स की धारा 80सी और धारा 24 के तहत होम लोन पर मिलने वाली टैक्‍स छूट के कारण भी अधिकांश नौकरी-पेशा लोग होम लोन लेना चाहते हैं. लेकिन अफसोस कि इसे पूरा करने के बाद भी ठीकठाक संख्‍या में लोगों को मुंह की खानी पड़ती है. हम बात उन लोगों की कर रहे हैं, जो नौकरी छूटने या फिर किसी अन्‍य आकस्मिक कारणों से होम लोन की ईएमआई नहीं चुका पाते हैं. आज हम ऐसे लोगों के लिए एक्‍सपर्ट की राय के साथ ही सभी जरूरी उपाय लेकर आए हैं

जब होम लोन बन जाता है नासूर


होम लोन से घर खरीदने में भले ही बड़ी मदद मिलती हो, लेकिन यह लंबे समय के लिए आपकी लायबिलिटी भी बन जाता है. आज असुरक्षित जॉब मार्केट और खराब हो रही जीवन शैली के बीच नौकरी छूटने से लेकर हम कई तरह की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं के भी शिकार हो जाते हैं. इन सबके अलावा जीवनयापन, बच्‍चों की पढ़ाई और बेटी की शादी के बढ़ते खर्च के कारण भी मिडिल क्‍लास से आने वाले लोग कई दफा मुसीबत में फंस जाते हैं.

इन कारणों से भी आती हैं समस्‍याएं
ईएमआई नहीं चुकाने की समस्‍या भविष्‍य की अपनी इनकम का अधिक आकलन करने और जरूरतों को कम करके देखने से भी पैदा होती है.

समय पर ईएमआई नहीं चुकाने के ये होते हैं असर
आपको सबसे पहले यह जान लेना चाहिए कि बैंक किसी भी सूरत में आपका लोन माफ नहीं करेगा. हां अगर आप लगातार 3 महीने तक लोन डिफॉल्‍ट करते हैं तो बैंक आपकी प्रॉपर्टी जब्‍त कर सकता है. पहली बार ईएमआई डिफॉल्‍ट करने पर बैंक उसकी फिक्र नहीं करता है, लेकिन दूसरी बार होने पर वह आपको अलर्ट करता है और तीसरी बार डिफॉल्‍ट करने पर बैंक इस लोन को एनपीए मानने लगता है. इसके बाद वह रिकवरी के उपाय करने लगता है.

तीन महीने के बाद वह कानूनी नोटिस भेज सकता है. इसके बाद बैंक प्रॉपर्टी की वैल्‍यू तय करके इसकी नीलामी करने की प्रक्रिया शुरू कर देता है. नीलामी की तारीख सामान्‍य तौर पर नोटिस के एक महीने बाद रखी जाती है.

आपके पास ये हैं मौके
बैंक कानूनी और नीलामी प्रक्रिया में उलझना नहीं चाहता है. इसलिए वह अमूमन नीलामी में 6 महीने का समय ले लेता है. आप 6 महीने के भीतर बैंक से सम्‍पर्क करके पूरे मामले को पटरी पर ला सकते हैं. आप बैंक से अपने लोन का रीस्‍ट्रक्‍चर भी करवा सकते हैं. इसके अलावा आप अपनी दूसरी जमीन, प्रॉपर्टी, सोना, बीमा पॉलिसी, म्‍यूचुअल फंड्स जैसी चीजें बेचकर भी लोन चुका सकते हैं.

इन सबसे भी अगर बात नहीं बनती है तो आप इस घर को बेच सकते हैं. रियल एस्‍टेट एक्‍सपर्ट प्रदीप मिश्रा के अनुसार भी संकट बढ़ाने से अच्‍छा है कि आप घर को बेच दें. रियल एस्‍टेट एक्‍सपर्ट प्रदीप मिश्रा के अनुसार भी संकट बढ़ाने से अच्‍छा है कि आप घर को बेच दें.

बीमा से नहीं मिलता है समाधान
अगर किसी ने लोन का बीमा भी करा रखा है तो भी उसका फायदा कर्जदार की मौत के बाद ही मिलता है. चूंकि होम लोन 15 से 20 साल के लिए होता है, इसलिए समस्‍या और बढ़ जाती है.

तुलसी की पत्तियां खाने के फायदे

आयुर्वेद में तुलसी तथा उसके विभिन्न औषधीय गुणों का एक विशेष उल्लेख है। तुलसी को संजीवनी बूटी के समान भी माना जाता है। तुलसी एक पवित्र जड़ी बूटी मानी जाती है और सदियों पहले से इसका इस्तेमाल कई तरह की बीमारियों को ठीक करने में होता आया है। कई घरों में रोजाना सुबह तुलसी के पेड़ की पूजा होती है। इसके सेवन से सर्दी-जुकाम समेत तमाम तरह की समस्याएं बहुत जल्दी ठीक हो जाती हैं। आयुर्वेद में तुलसी तथा उसके विभिन्न औषधीय गुणों का एक विशेष उल्लेख है। तुलसी को संजीवनी बूटी के समान भी माना जाता है।

हर रोग से छुटकारा दिलाएगी 1 कप तुलसी और हल्‍दी की चाय
आयुर्वेदिक चिकित्सा में तुलसी के पौधे के हर भाग को स्वास्थ्य के लिहाज से फायदेमंद बताया गया है।
तुलसी की जड़, उसकी शाखाएं, पत्ती और बीज सभी का अपना-अपना अलग महत्व है। इसमें एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं जो आपको तमाम तरह के इन्फेक्शन से बचाते हैं और स्वस्थ रहने में मदद करते हैं।
इस आर्टिकल में हम आपको तुलसी की पत्तियों के सेवन से होने वाले कुछ ख़ास फायदों के बारे में बता रहे हैं।

 
ब्लड को प्यूरीफाई करने में मददगार
तुलसी की पत्तियों के सेवन से शरीर में मौजूद हानिकारक टॉक्सिन बाहर निकलने लगते हैं। ये पत्तियां पूरे शरीर में ब्लड फ्लो को और बेहतर बनाती हैं जिससे सारे अंग ठीक ढंग से काम करते हैं। रिसर्च के अनुसार नियमित रूप से इन पत्तियों के सेवन से खून में लाल रक्त कोशिकाएं और सफ़ेद रक्त कोशिकाओं की मात्रा बढ़ जाती है। इसलिए रोजाना तुलसी की 8-10 पत्तियों को शहद के साथ मिलाकर सेवन करें। 
 
 
इम्युनिटी बढ़ाने में मददगार 
रोजाना तुलसी के सेवन से शरीर की इम्युनिटी पॉवर मजबूत होती है। इसके लिए आप तुलसी युक्त चाय का सेवन करें। इस चाय को पीने से सर्दी-खांसी या जुकाम से तुरंत आराम मिलता है। रोजाना जब भी चाय बनाये तो उसमें 4-5 तुलसी की पत्तियां ज़रूर डालें। 
 
 
स्ट्रेस दूर भगाने में मददगार 
अगर आप हर समय स्ट्रेस में रहते हैं और इससे छुटकारा पाना चाहते हैं तो तुलसी से बढ़िया और कुछ भी नहीं है। इन पत्तियों का रोजाना सेवन न सिर्फ आपके मेटाबोलिज्म को बेहतर करता है बल्कि इससे स्ट्रेस, एंग्जायटी और नींद से जुड़ी बीमारियों की समस्या कम हो जाती है। इसलिए रोजाना इन पत्तियों का सेवन ज़रूर करें।

 
ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद
ऊपर बताये हुए सारे फायदों के अलावा तुलसी की पत्तियां आपके ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित रखने में मदद करती हैं। इन पत्तियों में पोटैशियम, मैग्नीशियम और विटामिन सी की मात्रा काफी ज्यादा होती है जिससे ब्लड प्रेशर सामान्य रहता है। बेहतरीन परिणामों के लिए रोजाना 5-6 तुलसी की पत्तियां ज़रूर खाएं।

ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद 
तुलसी से रक्त में शुगर के स्तर को कंट्रोल किया जा सकता है। इन पत्तियों में एंटी डायबिटिक गुण होते हैं इसलिए तुलसी के रोज सेवन से इंसुलिन की संवेदनशीलता बढ़ती है और डायबिटीज होने का खतरा नहीं रहता है। रोजाना सुबह तुलसी की पत्तियां शहद के साथ खाना सबसे ज्यादा फायदेमंद है।

 
यूरिक एसिड को नियंत्रित रखने में मदद
जोड़ों में दर्द होना या किडनी की पथरी होने में सबसे मुख्य कारण यूरिक एसिड ही है। आपको बता दें कि तुलसी के सेवन से शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा कम होती है जिससे जोड़ों के दर्द से आराम मिलता है।

 
मेटाबोलिज्म बढ़ाने में मददगार
इन पत्तियों के सेवन से शरीर की इम्युनिटी पॉवर तो बढ़ती ही है साथ में बॉडी का मेटाबोलिज्म भी बेहतर होता है। इस वजह से आपका पाचन तंत्र ठीक से काम करने लगता है और पेट से जुड़ी बीमारियां खत्म हो जाती हैं।


साँसों से जुड़ी बीमारियों से राहत 
अगर आप रोजाना तुलसी के पत्तियों का सेवन करते रहें तो आपके शरीर का ब्लड फ्लो एकदम ठीक हो जाता है। इस वजह से शरीर के सभी अंगों को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन मिलने लगता है और वे ठीक ढंग से काम करने लगते हैं। अगर आपको सांसो से जुड़ी कोई समस्या है तो बेहतर होगा कि आप तुलसी की पत्तियों का सेवन शुरू कर दें। यह अस्थमा के मरीजों के लिए भी बहुत फायदेमंद है।

बासी रोटी खाने के ये फायदें जानकर हैरान रह जाएंगे


दोस्तों, अक्सर घरों में बासी रोटी बच जाती है और घर के सदस्य इसे खाने से इनकार कर देते हैं। ज्यादातर घरों का यही हाल रहता है। पर क्या आप जानते हैं बासी रोटी खाने से हमारे शरीर को बहुत फायदे मिलते हैं। आपको यह सुनकर थोड़ा अटपटा जरूर लग रहा होगा पर यह बिल्कुल आजमाया हुआ एक पुराना नुस्खा है। तो आइए, जान लेते हैं इसके हैरान कर देने वाले फायदों के बारे में:-


(1) डायबिटीज की समस्या दूर हो जाती है

बासी रोटी को दूध के साथ मिलाकर खाने से डायबिटीज की समस्या दूर हो जाती है। जिन लोगों के खून में शुगर का लेवल बढ़ा हुआ है उन्हें हर सुबह दूध में बासी रोटी मिलाकर जरूर खाना चाहिए। इससे इस बीमारी के इलाज में काफी मदद मिलती है।   
(2) ब्लड प्रेशर समस्या दूर हो जाएगी

आजकल लोगों में तेजी से ब्लड प्रेशर की समस्या बढ़ती जा रही है। हर तीसरा आदमी इस समस्या से ग्रस्त है साथ ही इसके कारण अन्य कई तरह की बीमारियां भी उत्पन्न हो रही है। पर यदि दूध के साथ बासी रोटी का सेवन किया जाए तो ब्लड प्रेशर समस्या दूर हो जाएगी और यह सामान्य बना रहेगा।
(3) एसिडिटी, अनपच, गैस, बदहजमी नहीं होती

कोई कितना भी बाहर का खाना क्यों ना खा ले। पर जब तक रोटी ना खाए पेट भरने का एहसास नहीं होता। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। बासी रोटी खाने से पेट संबंधित समस्याएं जैसे कि एसिडिटी, अनपच, गैस, बदहजमी नहीं होती।

(4) हृदय संबंधित बीमारियों का खतरा कम हो जाता है

बासी रोटी खाने से शरीर का तापमान सामान्य बना रहता है और इससे हृदय संबंधित बीमारियों का भी खतरा काफी हद तक कम हो जाता है।

ताजी रोटी की अपेक्षा बासी रोटी अधिक पौष्ट‍िक होती है, क्योंकि लंबे समय तक रखे रहने के कारण इसमें जो बैक्टीरिया होते हैं वे सेहत बनाने में लाभकारी होते हैं। 

कृपयां यह जानकारी अपने सभी दोस्तो, रीश्तेदार वं सगे-सम्बंधी के साथ शेयर करें!

किडनी मे जमां हुवां कचरा केवल पांच दिनो मे साफ


आजकल हम देखते है की लाखो लोगो की किडनी फैल हो रही है | रोज हजारो लोग किडनी रोगी बनते जा रहे है | क्योकी शुगर वं हाइब्लडप्रेशर वं हार्ट की ज्यादातर दवाइयां किडनी पर बुरा असर करके किडनी को फैल कर देती है | जबकी इनसे बचा भी जा सकतां है |

क्यां आप चाहते है की आपकी किडनी से जमां हुवा कचरा सिर्फ पांच दिनो मे निकल जाए


आपको यह प्रयोग केवल पांच दिनो तक करनां है आप पांच दिनो मे खूद महसुस करेंगे की आपकी किडनी पहले से ज्यादा काम कर रही है | मूञ-पेशाब ठिक से आ रहां है | शरीररमे जो पहले अधिक पसीनां आतां था वह बहोत कम होतां महसुस करेंगे | शरीरकी अतिरीक्त गर्मी को भी आप कम होतां हुवां अपने आप देखेंगे | आैर इस प्रयोग दरम्यान आप देखेंगे की आपको पेशाब की माञा बहोत ही बढ़ जायेगी आेर सालो से किडनी मे जमां हुवा टोक्सीक( जहर ) युरीन के द्वारा बहार निकल जायेगा | आैर 70% किडनी फैल होने के चान्स नही रहेंगे क्योकी आपकी किडनी को खराब करने वाला (टोक्सीक) जहर को पुरी तरह ही बहार निकाल देगा यह प्रयोग | 


>>> पांच दिनो मे किडनी मे जमां हुवां कचरा को पूरी तरह साफ करने वाला प्रयोग <<<

40 ग्राम फ्रेश हरां धनियां लिजिए आैर २ ग्लास पानी के साथ मिक्स करके मिक्षर मे ज्युस बनां लिजिए आैर सुबह खालीपेट सेवन करीए | यह एक खूराक है | इसी तरहां पांच दिनो तक इसी प्रकार प्रयोग करे | फीर जरुरत नही है इस प्रयोग की | 

नोंध:- यह प्रयोग जिसकी  किडनी फैल्योर हो चूकी है उनके लिए नही है


कृपयां यह जानकारी अपने सभी दोस्तो, रीश्तेदार वं सगे-सम्बंधी के साथ शेयर करें ताकी कीसीकी भी किडनी खराब नां हो!

हुक्के से धुम्रपान करा कर मरीजों का इलाज


यह तो हम सब जानते है कि धूम्रपान करना सेहत के लिए हानिकारक होता है। और हर जगह बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा होता है कि धुम्रपान सेहत के लिए हानिकारक है। लेकिन जो व्यक्ति पहले से बीमार हों उनके लिए तो यह किसी जहर से कम नहीं होता हैं। लेकिन एक ऐसी जगह है जहां पर मरीजों को दवाइयों के रूप में हुक्का पीने के लिए दिया जाता है।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि मध्य प्रदेश के उज्जैन में एक ऐसा अस्पताल है, जहां डॉक्टर खुद मरीजों को पीने के लिए हुक्का देते हैं। इस अस्पताल के डॉक्टरों का मानना है कि उनके खास हुक्के को पीने से न सिर्फ दमे के मरीज बल्कि सायनस, सर्दी सहित सभी श्वांस के रोगों से मुक्ति मिल जाती है। लगातार हुक्के का काश लगा रहे ये लोग कोई अपने शोक के लिए किसी हुक्के बार में नहीं बैठे हैं, बल्कि ये सभी अपनी अपनी अलग अलग बीमारियों से पीड़ित होकर उज्जैन के आर्युवेदिक कालेज में अपना इलाज करवा रहे हैं।

दरअसल देश भर में हुक्के को भले ही गलत नजरों से देखा जाता है लेकिन उज्जैन के आयुर्वेदिक अस्पताल में अनोखे तरीके से मरीजों का इलाज किया जाता है। दरअसल संभवतः देश में पहली बार उज्जैन के शासकीय धन्वतरी आर्युवेदिक अस्पताल में हुक्के से धुम्रपान करा कर मरीजों का इलाज किया जा रहा है।

वही , अस्पताल का मानना है कि हुक्का पीने से कई लाइलाज बीमारियां ठीक हो जाती हैं। आपको बता दे कि यहां पर तंबाकू वाला हुक्का नहीं दिया जाता बल्कि इसमें तंबाकू की जगह पर जड़ी बूटियों का इस्तेमाल होता है।

बताया जाता है कि इन जड़ी बूटियों का धुआं सीधे शरीर के अंदर जाता है और मरीज को फायदा होता है।

इस अस्पताल के डॉक्टर निरंजन सर्राफ बताते हैं कि उनके पास देश के अलग-अलग हिस्सों से इलाज करवाने के लिए मरीज आते हैं और उनको इलाज से लाभ भी मिलता है। निरंजन ने दावा किया कि उनके अस्पताल का हुक्के पीने से दमा, जुखाम के अलावा फेफड़ों से जुड़ी हुई कई लाइलाज बीमारियां ठीक हो जाती हैं।

सफ़ेद बालो को जड़ से काला कर देगा यह नुस्खा


सही खानपान न होने या प्रदूषण भरे वातावरण के कारण भी कई बार बाल जल्दी सफ़ेद होने लग जाते है. ऐसे में नीचे दी विधि अपनाकर आप अपने बालों को फिर से काला और चमकदार बना सकते है.

सामग्री :- करी पत्ता, दही या छाछ
बनाने की विधि :- सबसे पहले 20 करी पत्तों को लेकर अच्छे से धो ले. फिर उन्हें मिक्सी में दही के 4-5 चम्मच के साथ पेस्ट तैयार कर ले. अब इस पेस्ट को पैक की तरह बालों की जड़ों में लगाएं. पहले
इससे 5 मिनिट तक मसाज करें. फिर इस पैक को बालों में 20 से 25 मिनिट तक लगाकर रखें. इसके बाद बालों को अच्छे से धो ले. आप इस पैक को महीने में दो बार अपने बालों में लगाते रहें. फिर देखें

कमाल, किस तरह आपके बाल हमेशा के लिए रहेंगे काले. डॉक्टर तक भी इस नुस्खे को मान गए है. फिर क्यों लगाना इन कैमिकल्स वाली डाई या कलर की.

आलू से भी करें काले बाल :- यह तरीका पौराणिक एवं कारगर है. आलू में पोटेशियम, आयरन और कैल्शियम पाया जाता है जो बालों को काला करने के अलावा यह उनको गिरने से बचता है, डेंड्रफ से निजात दिलाता है, बालों को मजबूत करता है और बालों को स्वस्थ रखता है.प्रयोग विधि :- दो-तीन आलू के छिलके निकालकर एक कप पानी में उबाल ले. ठंडा होने पर उसमे दो-तीन बूंदे लेवेंडर ऑइल की मिला ले. अब इस मिश्रण को बालों की जड़ों तक अच्छी तरह लगाकर 20 मिनिट के लिए छोड़ दे.फिर ठन्डे पानी से धो ले.


आयुर्वेदिक उपाय

सामग्री: नींबू, आमला पाउडर, साफ पानी।
विधि: नींबू के रस में, 2 चम्‍मच पानी और 4 चम्‍मच आमला पाउडर मिला कर पेस्‍ट बनाइये। 1 घंटे के लिये रख दें और फिर प्रयोग करें।

कैसे लगाएं: इस पेस्‍ट को 20-25 मिनट के लिये बालों और जड़ों में लगाएं और फिर सिर धो लें, लेकिन उस दिन शैंपू का प्रयोग ना करें।

ध्यान रखें ये बाते

बालों को धोते वक्‍त ध्‍यान रखें कि यह आपकी आंखों में ना जाए।
इस पेस्‍ट को हफ्ते में हर चौथे दिन प्रयोग करें। ऐसा करने से आपके सारे सफेद बाल एक ही महीने में काले होने लगेगें।
अगर हो सके तो, आयुर्वेदिक तेल, शैंपू और साबुन का ही प्रयोग करें।
बालों के लिये असली आमले का तेल प्रयोग करें।

Our Fb Page